www.poetrytadka.com

aaj aasman ke taro

आज असमान के तारों ने मुझे पूछ लिया !
क्या तुम्हें अब भी इंतज़ार है उसके लौट आने का !
मैंने मुस्कुराकर कहा तुम लौट आने की बात करते हो !
मुझे तो अब भी यकीन नहीं उसके जाने का !!

हिन्दी शायरी