www.poetrytadka.com

aag lgala meri fitrat me nahi

आग लगाना मेरी फितरत में नही
मेरी सादगी से लोग जलें तो मेरा क्या कसूर !!