www.poetrytadka.com

Aadat sikha dali

Last Updated
हिज्र के आँचल में ही काँटे कुछ कम निकले I
वरना हमने तो पाँवों को जख्म खाने की आदत सिखा डाली II