Tareef Shayari


tareef shayari ab sharef ban gaae

ab sharef ban gaae

उनकी तारीफ़ क्या पूछते हो उम्र सारी गुनाहों में गुजरी
अब शरीफ बन रहे है वो ऐसे जैसे गंगा नहाये हुए है

unaki taareef kya poochhate ho umr saaree gunaahon mein gujari
ab sharef ban rahe hai vo aise jaise ganga nahaaye hue hai

tareef shayari wah wah

Wah Wah

यू तारीफ ना किया करो मेरी शायरी की
दिल टूट जाता है मेरा जब तुम मेरे दर्द पर वाह-वाह करते हो

yoo taareeph na kiya karo meree shayari ki
dil toot jaata hai mera jab tum mere dard par vaah-vaah karate ho

tareef karne wale

tareef karne wale

मिल जाएँगे हमारी भी तारीफ़" करने वाले.
कोई हमारी मौत की "अफ़वाह" तो फैलाओ यारों

mil jaenge hamaari bhi taareef" karane vaale.
koy hamaari maut kee "afavaah" to phailao yaaron

tareef shayari kya likhu

kya likhu

क्या लिखूँ तेरी सूरत - ए - तारीफ मेँ , मेरे हमदम
अल्फाज खत्म हो गये हैँ, तेरी अदाएँ देख-देख के

kya likhoon teri soorat - e - taarreef men , mere hamadam
alphaaj khatm ho gaye hain, teri adayen dekh-dekh ke

loading...
tareef shayari pani bhi dekhe pyasa ho jaae

pani bhi dekhe pyasa ho jaae

एक लाइन में क्या तेरी तारीफ़ लिखू 

पानी भी जो देखे तुझे तो प्यासा हो जाये

tareef shayari mai tareef karta hoon

mai tareef karta hoon

ये इश्क़ बनाने वाले की मैं तारीफ करता हूं 

मौत भी हो जाती है और क़ातिल भी पकड़ा नही जाता

sabhi tareef karte hai

sabhi tareef karte hai

सभी तारीफ करते हैं, मेरी शायरी की लेकिन

कभी कोई सुनता नहीं, मेरे अल्फाज़ो की सिसकियाँ.

tareef apne aap ki

tareef apne aap ki

तारीफ़ अपने आप की, करना फ़िज़ूल है,

ख़ुशबू तो ख़ुद ही बता देती है, कौन सा फ़ूल है

tareef shayari log bhale hi

log bhale hi

लोग भले ही मेरी शायरी की तारीफ न करे

खुशी दुगनी होती है जब उसे कॉपी पेस्ट में देखता हूं

teri tareef shayari

teri tareef shayari

तेरी तारीफ मेरी शायरी में जब हो जाएगी 

चाँद की भी कदर कम हो जाएगी

loading...