देशभक्ति शायरी


watan par shayari

watan par shayari

वतन पर शायरी

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे

शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे

बची हो जो एक बूंद भी लहू की

तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

desh bhakti sher o shayari

देशभक्ति शेरो शायरी

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए

बस अमन से भरा यह वतन चाहिए

जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए

और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये

watan parasti shayari

वतनपरस्ती शायरी

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा

ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा

पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये

desh bhakti par shayari

देश भक्ति पर शायरी

खून से खेलेंगे होली,

अगर वतन मुश्किल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना

अब हमारे दिल में है,

loading...

swatantrata diwas par shayari

स्वतंत्रता दिवस पर शायरी

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,

कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,

हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,

नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है

gadatantr diwas par shayari

 गणतंत्र दिवस पर शायरी

कर जस्बे को बुलंद जवान 

तेरे पीछे खड़ी आवाम 

हर पत्ते को मार गिरायेंगे

जो हमसे देश बटवायेंगे

desh bhakti shayari in hindi font

desh bhakti shayari in hindi font

desh bhakti shayari in hindi font देशभक्ति शायरी 

mere desh ki mitti me

mere desh ki mitti me

कुछ तो बात है मेरे देश की मिट्टी में साहेब

सरहदें कूद के आते हैं यहाँ दफ़न होने के लिए

desh bhakti smman karta hoon

smman karta hoon

मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,

यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,

मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,

तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ

mar kar wo log amar ho jaate hai

mar kar wo log amar ho jaate hai

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,

मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,

करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,

तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है

loading...