wo tera hona nahi chahta

zakhmi dil shayari wo tera hona nahi chahta

कितना नादान है ये दिल कैसे समझाऊ 

तू जिसे खोना नहीं चाहता हो तेरा होना नहीं चाहता