www.poetrytadka.com

mujhe mohabbat hai

मुझे महोब्बत है अपने हाथ की सब उगंलीयों से !
ना जाने किस उगंली को पकङ कर माँ ने चलना सिखाया होगा !!