jala raha hai mujhe

jala raha hai mujhe

ये क्या सितम  है‍,क्यूं रात भर सिसकता है

वो कौन है जो "दियों" में जला रहा है मुझे

from Zakhmi dil shayari


loading...
loading...