dhoka deti hai



धोखा देती है अक्सर मासूम चेहरे की चमक,

हर काँच के टुकड़े को हीरा नहीं कहते

from Dhoka Shayari


loading...