www.poetrytadka.com



💖 Mohabbat shayari

mohabbat thi unko humse

mohabbat thi unko humse

कमाल की मोहब्बत थी उनको हमसे 

अचानक सुरू हुई अचानक ख़त्म हो गई 

mohabbat bhi azeeb chej

mohabbat bhi azeeb chej

मोहब्बत भी अजीब चीज बनायीं खुदा तूने,

तेरे ही मंदिर में,

तेरी ही मस्जिद में,

तेरे ही बंदे,

तेरे ही सामने रोते हैं,

तुझे नहीं, किसी और को पाने के लिए.

Mohabbat ke usool

Mohabbat ke usool

मेरी महोब्बत के अपने ही उसुल है.

तुम करो न करो पर मुझे साँसो के टुटने तक रहेगी.

Mohabbat ka kirdaar

Mohabbat ka kirdaar

बड़ा गजब किरदार है मोहब्बत का,

अधूरी हो सकती है मगर ख़तम नहीं !!

Mohabbat Ka Koi Rang Nahi

Mohabbat Ka Koi Rang Nahi

Mohabbat Ka Koi Rang Nahi

Phir Bhi Wo Rangin Hai

Pyar Ka Koyi Chehra Nahi

Phir Bhi Woh Hasin Hai