www.poetrytadka.com

zmanat krate krate

मेरी हसरतों को इतना भी कैद में ना रख ए - जिन्दगी !
ये दिल भी थक चुका है इसकी ज़ामानत कराते कराते !!