www.poetrytadka.com

Zarre zarre me chupa hai

ज़र्रे जर्रे में छुपा है हौसलेवालों का जोश !
पैदा होते है इसी मिट्टी से ही सरफ़रोश !!

Zarre zarre me chupa hai