Zakhm dete hain

bharosa shayari zakhm dete hain

कुछ रूठे हुए लम्हें कुछ टूटे हुए रिश्ते..

हर कदम पर काँच बनकर जख्म देते हैं

Read More