Zakhm dete hain

bharosa shayari zakhm dete hain

कुछ रूठे हुए लम्हें कुछ टूटे हुए रिश्ते..

हर कदम पर काँच बनकर जख्म देते हैं

Read More Bharosa Shayari
Share via Whatsapp