www.poetrytadka.com

wo to pagal hai jo roz rooth jata hai hame aazmane ke liae

हम जितना आज प्यार करते है कल भी उतना चाहेंगेवो !
तो पागल है जो रोज रूठ जाता है हमें आजमाने के लिए !!