Poetry Tadka

Usne Kaisey Naye haath

उँगलियाँ आज भी इस सोच में गुम हैं फ़राज़ !
उसने कैसे नए हाथ को थामा होगा !!

usne kaisey naye haath