Uljhan Shayari

uljhan shayari and romantic shayari

@Uljhan Shayari And Romantic Shayari
उलझा रही है मुझको, यही कश्मकश आजकल..!!
तू आ बसी है मुझमें, या मैं तुझमें कहीं खो गया हूँ??

तुम्हारी आँख के आँसू हमारी आँख से निकले
तुम्हे फिर भी शिकायत है मोहब्बत हम नहीं करते
Tumhari aankh ke aansoo hamari aankh se nikle
Tumhe fir bhi shikayat hai mohabbat ham nahi karte

अब कोई ख्वाब नया दिल में उतरता ही नहीं
बहुत ही सख्त पहरा है तुम्हारी चाहत का
Ab koi khwaab naya dil me utarta he nahin
Bahot he sakht pahra hai tumhari chahat ka

मैं डर रहा हूँ तुम्हारी नशीली आँखों से
लूट लें न किसी रोज़ कुछ पिले के मुझे
Main dar raha hoo tumhari nasheeli aankhon se
Loot len na kisi roz kuchh pile ke mujhe

Read More Romantic Shayari in Hindi for girlfriend & boyfriend