www.poetrytadka.com

udne de parindo ko

उड़ने दे इन परिंदो को आजाद फिजा में ग़ालिब जो तेरे आपने होंगे वो लौट आएंगे