www.poetrytadka.com

tumko chupa rkha hai

तुमको छुपा रखा है इन पलकों मे !
पर इनको ये बताना नहीं आया,सोते हुए भीग जाती है !
पलके मेरी,पलकों को अब तक दर्द छुपाना नहीं आया !!