www.poetrytadka.com

tumhari rag rag se waqif hoon mai

मेरे दिल से निकलने का रास्ता भी न ढूंढ सके !
और कहते थे तुम्हारी रग रग से वाकिफ है हम !!