www.poetrytadka.com

tu hosh me thi

tu hosh me thi

तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी,

एक हम हैं कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे