www.poetrytadka.com

Tod do kasam

तोड़ दो न कसम जो खाई है
कभी कभी याद कर लेने में क्या बुराई है !!