www.poetrytadka.com

teri inayat ko samjhu

तेरी इनायत को समझू तेरी रहमतो
की कदर करू बस इतनी सी intza है !
मेरे jaan.जिस हाल मे रहु जहाँ भी रहु
Zikr तेरा ओर sukr तेरा ही करू !!