www.poetrytadka.com

tere sadgi pe marta hoon

ना हवस तेरे जिस्म की, ना शौक तेरी खूबसूरती का !
बेमतलबी सा बन्दा हूँ .बस तेरी सादगी पे मरता हूँ !!