www.poetrytadka.com

tere ishq me sab kuch

तेरे इश्क़ में सब कुछ लूटा बैठा !
मैं तो ज़िंदगी भी अपनी गँवा बैठा !
अब जीने की तमन्ना ना रही बाकी !
सारे अरमान मैं अपने दफ़ना बैठा !!