www.poetrytadka.com

tanhaeyo ki nagri

बज्म ए यारां से अब दिल उठ सा गया है "साहील I
चल फिर से तन्हाइयों की नगरी आबाद करते है II