www.poetrytadka.com

Yaad Shayari



Raat bhar jagta hun

रात भर जागता हूँ एक ऐसे शख्स की यादों में,

जिसे दिन के उजाले में भी मेरी याद नहीं आती !!

Hum yaad rahe to

Hum yaad rahe to thik warna bhula dena

Hui ho hum se koi khata to saza dena

Hum to ek kore kagaz ki tarah hain

Kuch

likho to thik warna jala dena

Aankhone ke neeche

आँखों के नीचे ये "काले निशां सबूत हैं !

कुछ रातें बर्बाद की है "मैंने तेरी "याद में !!

Tum Yaad Aaye

मंजर भी बेनूर थे और फिजायें भी बेरंग थी !

बस तुम याद आए और मौसम सुहाना हो गया !!

Yaad me nasha karta hoon

याद में नशा करता हूँ और नशे में याद करता हूँ !!

 
 

intzaar

उस शख्स का इन्तजार मुझे उम्रभर रहा !

जो दो कदम साथ चलकर छोड़ गया मुझे !!

teri yaad

अजब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर..

सो जाऊँ तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं !!

mujhe yaad karne ki

कैसा वक्त है कि उसे फुर्सत ही नहीं मुझे याद करने की

कभी वो शख्श और मै एक ही साँस से जिया करते थे

Yaad wahi aate hain

आरजू होनी चाहिए किसी को यद् करने की...!!
लम्हे तो अपने आप ही मिल जाते हैं,
कौन पूछता है पिंजरे में बंद परिंदे को,
याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं....!!

 
 
 

kisi ke yado me basna

किसी की यादों में बसना, आसान नहीं ए जनाब !
कुछ ऐसा कर जाना, कि यादें भी अपने काबिल समझें !!