www.poetrytadka.com

Whatsapp Quotes

Last Updated

jab se dekha

jab se dekha

जब से देखा है तेरी आँखो मे झाँक कर..

मुझे आईना देखना अच्छा नही लगता

hamare shehar me

hamare shehar me

हादसे इतने हैं हमारे शहर में,

अखबारों को निचोडूं तो खून टपकता है

teri bahon me

teri bahon me

तेरी बाहों में घुल रही मंद साँसों की कश्मकश,

रुक कर के ज़िंदा रह लूँ या चल के मर जाऊँ

bhigi bhigi si

bhigi bhigi si

भीगी भीगी सी ये जो मेरी लिखावट है..

स्याही में थोड़ी सी, मेरे अश्कों की मिलावट है

tumhari yaadon ke silsile

tumhari yaadon ke silsile

तुम्हारी यादों के सिलसिले कभी रुकते नही..

एक हम हारते नही एक तुम हो कि, मानते नही