www.poetrytadka.com



Urdu Shayari

Love Urdu Shyari

Love Urdu Shyari
हैं न मेरे ख्वाब खूबसूरत
खुद को जब भी देखा तेरी बाँहों में देखा
hain na mere khvaab khoobasoorat
khud ko jab bhee dekha teree baanhon mein dekha

सच्ची मोहब्बत की निशानी यही होती है की
उसके बाद फिर किसी से मोहब्बत नहीं होती है
sachchee mohabbat kee nishaanee yahee hotee hai kee
usake baad phir kisee se mohabbat nahin hotee hai

wo sunta hai sabki

wo sunta hai sabki

वो सुनता है सबकी दुआ कर तो देखो 

तुम अपनी नशीब आजमा कर तो देखो 

सियाही गुनाहों की धुल जाए दिल से 

तुम आँखों से आँसू बता कर तो देखो !!

mere haq me duaa

mere haq me duaa

ना जाने कौन मेरे हक में दुआ पढता है 

डूबता भी हूँ तो समुंदर उछाल देता है !!

Mujhey fir tabah kar

मुझे फिर तबाह कर मुझे फिर रुला जा
सितम करने वाले कहीं से तू आजा

आँखों में तेरी ही सूरत बसी है
तेरी ही तरहा तेरा ग़म भी हंसीं है

kabr me dafnate hi

kabr me dafnate hi

kabr me dafnate hi sare rishte toot jate hai chand dino me apne apno ko bhool jate hai koi nahi rota umar bhar kisi ke liae waqt ke sath aansu bhi sookh jate hai