www.poetrytadka.com



Tadka Shayari

Tadka Shayari | तड़का शायरी | तड़का पोएट्री 

poetrytadka dard

जब दर्द हदसे गुज़र जाता है तब इन्सान रोता नही खामूश हो जाता है poetrytadka dard

poetrytadka wzah

मुझे नजर अन्दाज़ करने की तू एक वज़ह बता दे
फिर तुझे चाहने की हजार वजह बताऊंगा poetrytadka wzah

poetrytadka mohabbat

रात की तन्हाई में तो हर कोई याद कर लेता है
जो सुबह उठ कर याद करे मोहब्बत उसे कहते है poetrytadka mohabbat

poetrytadka love

प्यार सिर्फ आई लव यू बोलने से नही होता
एक दुसरे की फीलिंग समझनी पड़ती है रिश्ता निभाने के लिए poetrytadka love

poetrytadka intezaar

उनकी अपनी मर्जी हो तो हमसे बात करते है
और हमारा पागलपन देखो के सारा दिन हम उनकी मर्ज़ी का इन्तजार करते है poetrytadka intezaar