सुप्रभात शायरी

सुप्रभात | suprabhat shayari, subah ki shayari, सुबह की शायरी, सुप्रभात शायरी

subah sham teri chahat

Subah sham teri chahat

सुबह शाम तेरी चाहत करूँ , तुझसे ना कभी कोई शिकायत करूँ, तेरे हसीं लबों पे यूं ही मुस्कान बरक़रार रहे सदा, मुझमे समाये रहो मेरी धड़कन बनकर, चाहकर भी तुझको खुद से जुदा ना करूँ ॥ ” सुप्रभात “

Share via Whatsapp
raat gujari

Raat gujari

रात गुजारी फिर महकती सुबह आई … दिल धड़का फिर तुम्हारी याद आई.. आँखों ने महसूस किया उस हवा को … जो तुम्हें छु कर हमारे पास आई .. “सुप्रभात “all frined

Share via Whatsapp
har subah

Har subah

सुप्रभात - हर सुबह की धुप कुछ याद दिलाती हैं..  हर फूल की खुशबू एक जादू जगाती हैं… चाहू ना…. चाहू कितना भी यार… सुबह सुबह आपकी याद आ ही जाती हैं ..  “

Share via Whatsapp
subh din

Subh din

आप नहीं होते तो हम खो गए होते… अपनी ज़िन्दगी से रुसवा हो गए होते… ये तो आपको “गसुप्रभात” कहने के लिए उठें हैं … वर्ना हम तो अभी तक सो रहे होते …. “शुभ दिन “

Share via Whatsapp
subah subah aapko

Subah subah aapko

सुबह-सुबह आपको एक पैगाम देना है, आपको सुबह का पहला सलाम देना है, गुज़रे सारा दिन आपका ख़ुशी ख़ुशी, आपकी सुबह को खूबसूरत सा नाम देना है।

 

Share via Whatsapp