www.poetrytadka.com



Hindi Shero shayari

glatfahmi ki gunjais nahi

गलतफहमी की गुंजाईश नहीं सच्ची मोहब्बत में !
जहाँ किरदार हल्का हो, कहानी डूब ही जाती है !!

kisine aaj pucha khase late ho

किसी ने आज पूछा,कहा से ढूढ लाते हो एसी शायरी !
में मुस्कुरा के बोला उसके खयालो में डूबकी लगा कर !!

khali ho chuka

खाली हो चला दिल अहसासों से !
न दिल कुछ कहता है न कलम कुछ लिखती है !!

mujhe mazboor karti hai

मुझे मजबूर करती हैं यादें तेरी वरना !
शायरी करना अब मुझे अच्छा नहीं लगता !!

kisi shayar ka

चेहरा है जैसे झील में हँसता हुआ कवंल !
या ज़िन्दगी के साज़ पे छेड़ी हुई ग़ज़ल !
जाने बहार तुम किसी शायर का ख्वाब हो !!