www.poetrytadka.com



shayari sangrah

tere ehsaas ki garmi

tere ehsaas ki garmi

तेरे एहसासों की गरमी ने मुझे सोने न दिया

तेरी याद आयी तो अँशुआो को बहने न दिया

 

mere hi khoon me

mere hi khoon me

डूबी है मेरी उंगलियां मेरे ही खून में,

ये काँच के टुकड़ो पर भरोशे की सज़ा है

wo pyar ki kya

wo pyar ki kya

वो चाहते है जी भर के प्यार करना,

हम सोचते हैवो प्यार ही क्या जिससे जी भर जाये

zara si baat pe

zara si baat pe

ज़रा सी बात पे ना छोड़ना किसी का दामन

उम्रें बीत जाती हैं दिल का रिश्ता बनाने में

wo insan shayari sangrah

wo insan shayari sangrah

shayari sangrah,shayari sangrah image,shayari sangrah fb,shayri sangrah pic,shayari sangrah facebook,shayri,sangrah images,sad shayari sangrah,shayari sangrah love,shayari sangrah hindi images