www.poetrytadka.com



Shayari 2019

meri tanhaiyan

meri tanhaiyan

मेरी सरगोशियां जब खामोशियाँ बन जाएं

मेरी तनहाइयाँ तेरी मजबूरिया न बन जाएं

hwa me nami

hwa me nami

हवा में नमीं के बाद भी मैदान में उछाल है, 

खस्ताहाल है खेल , पर उनका कमाल है

mohabbat ka bharam

mohabbat ka bharam

मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया

मेरे कमरे में भी एक ताजमहल रखा है

mushkurana chor diya

ये सुना है कि हिज्र में मेरे आपने मुस्कुराना छोड़ दिया

ये तो ऐसा है जैसे मछली ने सर्दियों में नहाना छोड़ दिया