www.poetrytadka.com

Romantic Shayari

Last Updated

Pata Nahin

पता नही ये बादल क्यूँ भटक रहे हैं फ़िज़ा में दर-बदर !
शायद इनसे भी बात नहीं करता, इनका अपना कोई !!

Ishara Bus Dilbar

बातें हज़ारों से महफ़िल में होती है !
इशारे बस दिलबर को किये जाते हैं !!

Akela Hun

अकेला वारिस हूँ उसकी तमाम नफरतों का !
जो शख्स सारे शहर में प्यार बाटंता है !!

Meri Rooh Chhoo Lene Ke

मेरी रूह को छू लेने के लिए बस कुछ लब्ज ही काफी है !
कह दो बस इतना ही के तेरे साथ जीना अभी बाकि है !!

karata nahin tumase shikaayat

karata nahin tumase shikaayat
karata nahin tumase shikaayat mera dil magar... ye kahana chaahata hai ki tum ab vo nahin rahe…