www.poetrytadka.com



Poems Bucket

poems bucket jana hai tujhko

poems bucket jana hai tujhko

जाना है तो जा मुझसे कितनी भी दूर

मेरी याद एक कयामत है तुझे आएगी जरूर !!

na jane kyu

na jane kyu

ना जाने क्या मुसुमियत है तेरे चेहरे में 

तेरे सामने आने से ज्यादा तुझे छुप कर देखना अच्छा लगता है 

jab rooh nikal jaaegi

jab rooh nikal jaaegi

आज जिस्म में जान है तो देखते नहीं है लोग 

जब रूह निकल जाएगी तो कफन हटा हटा कर देखेंगे लोग 

toot kar bikharna

toot kar bikharna

जब कभी टूट कर बिखरना तो बताना हमको 

हम तुम्हे रेट के ज़र्रो से भी चुन सकते है 

dhokha khake bhi

dhokha khake bhi

दुनिया में सबसे ताकतवर इन्सान वो होता है 

जो धोखा खा के भी लोगो की मदद करना नहीं छोड़ता