www.poetrytadka.com

New Shayari

Zindagi mai bhi

zindagi mai bhi

ज़िन्दगी मैं भी मुसाफिर हूँ तेरी कश्ती का

तू जहाँ मुझसे कहेगी मैं उतर जाऊँगा

Tujhe bhula diya

tujhe bhula diya

जिस चेहरे को देख कर हँसते थे 

उसी न आज हमे रुला दिया 

खुद तो फोन किया नहीं 

मैंने किया तो कोलर टून में सुना 

तुझे भुला दिया 

Main nahi bewafa

main nahi bewafa

मै नहीं वेवफा मेरा ऐतबार करले 

दे दे मुझे मौत या फिर प्यार करले

Mila wo bhi nahi karte

mila wo bhi nahi karte

मिला वो भी नहीं करते मिला हम भी नहीं करते 

दगा वो भी नहीं करते दगा दम भी नहीं करते 

Dard duniya ne

dard duniya ne

समझा न कोई दिल की बात को 

दर्द दुनिया ने बिना सोचे ही दे दिया 

जो सह गाए हट दर्द को हम चुपके से 

तो हमको ही पत्थर दिल कह दिया