Love Poetry in Hindi

love poem in hindi palko ko

palko ko

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं

love status in hindi for girlfriend

love status in hindi for girlfriend

मुझे गम ये नहीं उसने मेरे दिल को जलाया है !

खुशी इस बात की है आज ठंडक मिल गई उसको !!

Hindi Poem on Ahsaas

बीते हुए लम्हों का एहसास हो
नजरो से दूर …दिल के पास हो
सुनहरी शामो की मीठी सी याद हो
खुदा से मांगी हुई इक अनसुनी फ़रियाद हो 
चेहरे की उदासी …धड़कन की आवाज़ हो
मेरी अधूरी मुहब्बत अधूरा ख्वाब हो 
कैसे समझाऊँ तुम कितने ख़ास हो
बीते हुए लम्हो का एहसास हो……

ek baat btani hai

तुमसे गले मिलकर बस एक बात बतानी है !

तेरे सीने में जो धड़कती है वो मेरी निशानी है !!

Wo Din bhi aayega

वो दिन भी आयेगा 
मेरे इंतज़ार में 
जब तुम खडी होगी 
नज़रें बार बार 
रास्ते पर उठ रही होंगी 
घड़ी की सुईयां 
अटकी हुयी लगेंगी 
दिल की धडकनें 
बढ़ रही होंगी 
चेहरे पर पसीना 
माथे पर सलवटें होंगी 
तुम्हें उन हालात का 
अहसास होने लगेगा 
तुम्हारे इंतज़ार में 
जो मैंने सहा होगा 
प्रीत से मिलन की आस 
कुछ ऐसी ही होती है 
जिसने सही 
उसे ही महसूस होती है

Tera Naam Likh doon

तेरे दिल के दरो दीवार पर अपना नाम लिख दूँ
आ तुझे अपनी मैं सुबह शाम लिख दूँ
हर रात देखूँ तेरे सुहाने ख्वाब …
उन ख्वाबो में अपने सारे अरमान लिख दूँ
तेरे दिल के दरो दीवार पर अपना नाम…
तेरे एहसासो से लिपट जाऊँ
तेरी रूह में सिमट जाऊँ
तेरे कदमो में सारा जहान रख दूँ
तमाम हसरतो को अपनी तेरे नाम लिख दूँ
तेरे दिल के दरो दीवार पर अपना नाम लिख दूँ……

Chhup Chhup kar pyar nahin hota

छुप -छुप कर प्यार नहीं होता !
साँसों से साँसों का यूँ तो
खुल कर व्यापार नहीं होता ,
यह भी सोलह आना सच है -
छुप- छुप कर प्यार नहीं होता !
कंटक में पुष्प विहँसते हैं
संकट में वीर सँवरते हैं
खुशियों में अश्रु थिरकते हैं -
तिल भर प्रतिकार नहीं होता !
यह भी सोलह आना सच है -
छुप- छुप कर प्यार नहीं होता !
है अक्स वही मन दर्पण में
शामिल दिल की हर धड़कन में
दिल रैन उसी की तड़पन में -
मिलकर इज़हार नहीं होता !
यह भी सोलह आना सच है -
छुप- छुप कर प्यार नहीं होता !
हर दिल में प्यार मोहब्बत हो
हर शह की यही इबादत हो
लहरों की मात्र इनायत हो -
पर दरिया पार नहीं होता !
यह भी सोलह आना सच है -
छुप- छुप कर प्यार नहीं होता !!
Love poem of the day

Chalo hum bhi mana lete hain

चलो हम भी मना लेते हैं !
एक क़तरा प्यार का आज!
नफरत भरे इस दौर में!
एक लिजलिजी सी चीज है प्यार!
सिर्फ भरोसे का व्यापार!
मुझे डर लगता है इस कदर!
महबूब तुझको लग जाये ना किसी की नज़र!
ये गुलाब से खिले हुए दिल!
कबूतर के जोड़ो से मिले हुए दिल!
किसी वीरान में फड़फड़ाते है!
एक हरे दरख्त के लिए तरस जाते है!
जमींन से आसमान तक देखता हूँ!
दिल के अरमान को फेंकता हूँ!
प्रेम के ढाई अक्षर पढ़ता हूँ!
कई किताबो से लड़ता हूँ!
बारी में प्रेम का ठौर तलाशता हूँ!
हाट से प्यारा उपहार लाता हूँ!
प्यार का यह दिन!
बड़े प्यार से मनाता हूँ|!

milo ki dooriya

यूं तो तेरे -मेरे दरमिया हैं मीलों की दूरिया !
फिर भी ऐसा कोई पल नहीं की तु मेरे साथ नहीं !!

uski zarurat bhi bhut hai

शिकवे भी हजारों हैं , शिकायतें भी बहुत है !
इस दिल को मगर उनसे मुहाब्बत भी बहुत है !
ये भी है तम्मना की उनको दिल से भुला दें !
इस दिल को मगर उनकी जरुरत भी बहुत है !!