www.poetrytadka.com



Hindi Shayari : शायरी

dil ko kabu

धडकनों को कुछ तो काबू में कर ऐ दिल 

अभी तो पलके झुकाई है मुश्कुराना बाकि है 

ye saal bhi aakhir beet gaya

कोई हार गया कोई जीत गया, 

ये साल भी आखिर बीत गया

dil tod diya ye kah ke

dil tod diya ye kah ke

किसी ने आज ये कहके दिल तोड़ दिया 

की लोग तेरे नहीं तेरे शायरी के दीवाने है 

whi mujhko akele

वही मुझको अकेला कर गयी, 

जो कभी दुआओ में मांगती थी

soya huaa hai

सोया हुआ है मुझमें कोई शख्स आज रात 

लगता है अपने जिस्म से बाहर खड़ा हूँ मैं.