www.poetrytadka.com

Judai Shayari

Last Updated

koi wada nahi fir bhi

koi wada nahi fir bhi

कोई वादा नहीं फिर भी प्यार है,

जुदाई के बावजूद भी तुझपे अधिकार है.

tere chehre ki udasi

tere chehre ki udasi

तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही,

मुझसे मिलने को तू भी बेक़रार है

Ab hame bhi aadat ho gayi

Ab hame bhi aadat ho gayi hai tere bin jeene ki....!

teri nafrat ne aisa bana diya hai ki ab to dhadkan bhi chalti hai bina saans k.....!

 

Koi roothe agar tumse

कोई रूठे अगर तुमसे तो उसे फ़ौरन मना लेना, इस हाल में अक्सर जुदाई जीत जाती है। 

Aye chand chala ja

ऐ चाँद चला जा क्यो आया है मेरी चौखट पे, छोड़ गया वो सख्स जिसके धोखे में हम तुझे देखते थे।