www.poetrytadka.com



Intezaar Shayari

jo sfar ki suraat karte

जो सफर की शुरुआत करते हैं,

वे मंजिल भी पा लेते हैं बस,

एक बार चलने का हौसला रखना जरुरी है.

क्योंकि,अच्छे इंसानों का तो रास्ते भी इन्तजार करते है

intezaar karenge un palo ka

intezaar karenge un palo ka

इन्तज़ार करेंगे उन पलो का हम भी बेचैनी से जब तेरे फ़ैसले तुझ तडपायेगे बहुत

hum to intzaar karte karte

hum to intzaar karte karte

हम तो इन्तेजार करते करते अब मर जायेंगे

कोइ तो आये ऐसा जिन्दगी में जो बेवफा ना हो

zara si fursat

zara si fursat

ज़रा सी फुर्सत निकाल कर हमारा क़त्ल ही कर दो

यूँ तेरे इन्तजार में तड़प-तड़प के मरना हमसे नहीं होता.

nikle duniya ki

nikle duniya ki

निकले हम दुनिया की भीड़ में तो पता चला 

की हर वो शख्स अकेला है जिस जिसे ने मोहब्बत की है