www.poetrytadka.com



Intezaar Shayari

intezar karne walo

intezar karne walo

इंतजार करने वालो को उतना ही मिलता है,

जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते है.

tere intezar ka aalam

तेरे इंतज़ार का ये आलम है,

तड़प्ता है दिल आखें भी नम है,

तेरी आरज़ू में जी रहे है, 

वरना जीने की ख्वाहिश कम है.

kiska kroo intezaar

क्या माँगु खुदा से आप को पाने के बाद

किसका करू इंतेज़ार ज़िंदगी मे आपके आने क बाद

क्यू प्यार पे जान लूटते हैं लोग,

आज मालूम हुआ हैं आप को पाने के बाद.

intezaar karenge un plo ka

intezaar karenge un plo ka

इन्तज़ार करेंगे उन पलो का हम भी बेचैनी से जब तेरे फ़ैसले तुझ तडपायेंगे बहुत

pyar bhi hum kare

pyar bhi hum kare

प्यार भी हम करें, इन्तजार भी हम, जताये भी हम और रोयें भी हम