Hindi Story

meri kahani meri zabani

Meri Kahani Meri Zabani

प्यार की कहानी
आज अकस्मात् जब यूं ही फ़ोन के कॉन्टेक्ट्स चेक कर रहा था तभी अचानक तुम्हारे नाम पर मेरी थिरकती हुई उंगलियां रुक-सी गयीं दिल की धड़कनों के साथ... तुम्हारा नंबर आज भी सेव्ड है मेरे फ़ोन लिस्ट में, कभी-कभी देखकर दिल को सुकून से भरने देता हूँ...
तुम्हारी तस्वीरों को तो डिलीट कर दिया था मैंने… कमज़ोर कर रही थी मुझे, जकड़ रही थी मुझे तुम्हारी यादों में । दर्द बढ़ता ही जाता था तुम्हें सिर्फ तस्वीर में देखकर, तुम्हारा पास न होना बहुत कचोटता है मुझे
कल ही मैंने तुम्हारा फेसबुक टाइमलाइन चेक किया था ख़ुद से बचाकर, तुम्हारी हर पोस्ट के कमेंट्स पढे थे मैंने, न जाने कितनों ने तारीफ़ में न जाने क्या-क्या लिख़ रखा था… ग़ुरूर सा हो रहा था अपनी पसन्द पर; डर था तुम्हारे भोलेपन पर और जलन सी भी हो रही थी... मगर तसल्ली सी है की तुम्हारी आदत आज भी वैसी ही, ठीक वैसी जैसे पहले थी.... ”किसी को भाव नहीं देती तुम… किसी को भी नहीं
शायद याद हो तुम्हें लगभग दो साल पहले या यूं कहूं तो आने वाले साल में दो साल हो ही जाएंगे । मैं रात के आठ बजे ठिठुरते हुए सड़क से मेसेज करता था तुम्हें.. कभी बायां हाथ पॉकेट में तो कभी दायां, बड़ी ठण्ड थी उन दिनों… मैं ठीक से टाइप भी नहीं कर पा रहा था और तुम घर में बैठी मुझे लेट रिप्लाई दिया करती थी । मैं रात-रात भर ठण्ड में छत की सीढ़ियों पर बैठा तुमसे बातें करता था गिरती हुई ओस से जैसे दोस्ती हो गई थी मेरी ।
मैं रात भर जगा हूँ पहले तुम्हारे सोने के इंतज़ार में… जब तुम असाइनमेंट लिखा करती थी तब सुना है मैंने तुम्हारे पलटते हुए पन्ने की आवाज़ों को, उसपर चलती और घिसती हुई कलम को फिर तुम्हारे सो जाने के बाद तुम्हारी साँसे सुनी हैं मैंने, तुम्हारी करवटों को महसूस किया है, तुम्हारी चादर पर पड़ी सिलवटों को अपनी चादर पर डाल कर उससे तुम्हारे अक़्स बनाएं हैं मैंने… कभी फ़ोन नहीं काटा............
फिर तुम्हारे उठने से पहले अपनी नींद से लड़कर तुमको मेसेज भी तो किया है ” Good Morning ” ताकि जब उठो तो सबसे पहले मेरा प्यार रहे तुम्हारे मोबाइल स्क्रीन पर । “चाय” बनाते वक़्त सिर और कंधे के बीच में फ़ोन रखकर तुमसे बातें की हैं की तुम्हें मेरी हैडफ़ोन से आती हुई शोरगुल से ऐतराज़ था
ख़ैर.... सोच रहा था तुम्हारा व्हाट्सप्प स्टेटस भी चेक कर लूं,लास्ट सीन भी चेक किये तो बहुत दिन हो गएं हैं,शायद तुम्हें याद नहीं होगा पिछली बार हमारी आखिरी बात भी इसी पर हुई थी मेरे लगातर मेसेज से तुम नाराज़ सी थी मगर अब तो खुश होगी ही तुम एक साल होने को हैं और मैंने तुम्हे तंग नहीं किया है और न कोई कोशिश की है…
तुम्हें समझ में नहीं आता,क्या बार-बार मेसेज करते रहते हो… कोई काम-वाम है या नहीं, कोई मतलब हो तभी मेसेज किया करो”
इस बार मैंने तुम्हें खुदको ब्लॉक करने का कोई मौका भी नहीं दिया, अपनी ख़ुद्दार मोहब्बत को और कितना ज़लील होने देता... कितना.... ?
अब मैं तुम्हें कैसे समझाउं की जो मतलब से होता है वो व्यापार होता है प्यार नहीं, मैंने तो बस प्यार का मतलब जाना है किसी मतलब से प्यार नहीं किया तुम्हें.....
तुम्हें कॉल नहीं करूंगा मैं… न ही तुमसे मिलने की कोई चाहत सी है, बस यूं ही आज तुम्हारे नाम का दीदार हुआ तो आँखों से दर्द सा कुछ रिसने लगा था… सो लिख़ दिया और ये भी किसी मेसेंजर के मेसेज की तरह क्रॉस-सर्किल में डाल दिया जाएगा, क्यों ...ऐसा ही होगा न
(तुम्हारे लिए) आख़िरी बार अलविदा

Share via Whatsapp
ameer kaun a heart touching story

Ameer Kaun a heart touching story in hindi

#अमीर_कौन?
6 महीने के एक बच्चे की माँ ने फाइव स्टार होटल के मैनेजर से पूछा सर ...! एक कप दूध मिलेगा क्या?
प्रबंधक "हाँ ...! सौ रुपये में मिलेगा"
"ठीक है, दे दो ...!" महिला ने कहा।।
पिकनिक के दौरान इस होटल में ठहरी थी __ अगली सुबह जब वे कार में जा रहे थे तो बच्चे को फिर भूख _लगी कार एक टूटी फूटी झोपड़ी वाली चाय की दुकान पर रोका गया _ बच्चे को दूध पिला कर उसकी भूख को शांत किया ...

दूध के पैसे पूछने पर बूढ़ा दुकान मालिक बोला .. " बेटी ...! हम बच्चे के दूध के पैसे नहीं लेते, अगर रास्ते के लिए चाहिए तो अधिक दूध लेती जाओ _ ".. बच्चे की माँ के मन में एक सवाल बार बार घूम रहा था कि अमीर कौन? ...
फाइव स्टार होटल वाला या टूटी झोपड़ी वाला??
मिला है जीवन किसी के काम आने के लिए
समय बीत रहा है कागज के टुकड़े कमाने में

क्या करोगे इतना रुपया पैसा कमा कर ??
न कफन में जेब है, ना कब्र में अलमारी !"

Share via Whatsapp

A real love story in hindi

सच्चा प्यार कभी भी और कहीं भी हो सकता है| प्यार एक ऐसा एहसास है, जो बिन कहे भी सब कुछ कह जाता है| जब किसी को प्यार होता है| तो वह यह नही सोचता की इसका अंत क्या होगा| और ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि वह इन्सान किसी के प्यार में इतना खो जाता है कि बस प्यार के अलावा उसे कुछ दिखाई नही देता है|” दोस्तों मैं आपको सच्चा प्यार करने वाले एक प्रेमी जोड़े की कहानी बताने जा रहा हूँ जो कि मुझे उम्मीद है आपके दिल छू जायेगी| एक लड़का था| वह एक लड़की से बहुत प्यार करता था| वह उस लड़की के लिए कुछ भी कर सकता था| पर दिक्कत यह थी कि लड़का बहुत गरीब घर से था जबकि लड़की बहुत अमीर थी| और वहीँ दूसरी दिक्कत यह थी कि लड़का अलग जाति का था| इस वजह से दोनों के प्यार मे बहुत कठिनाई आ रही थी| वह लड़का उस लड़की से अक्सर पूछता है “क्या तुम मुझसे शादी करोगी?” लड़की जवाब देती है “मै तो तुमसे शादी करना चाहती हूँ, पर मेरे घर वाले कभी राजी नही होंगे और मै भाग कर शादी नहीं कर सकती हूँ| यह समाज बहुत बुरा है| हमें जीने नही देगा|” और लड़के उससे कहता है “ठीक है! जब मैं अपने पैरो पर खड़ा हो जाऊंगा तो तुम्हारे पापा से तुम्हारा हाथ मागूँगा|” लड़की हंसकर कहती है “शादी में क्या रखा है? क्या शादी के बाद मेरे दिल में तुम्हारा प्यार कम हो जायेगा?”| यह सुनकर लड़का सोच में पड़ जाता है, मगर वह जैसे-तैसे हंसकर जवाब देता है “क्या तुम मुझे शादी के बाद भूल जाओगी?” इसपर लड़की का जवाब होता है “ऐसा कभी नही होगा और मेरी सांसे रुक सकती पर मेरा प्यार तुम्हारे लिए कम नही होगा|”
समय बीतता गया| कुछ समय बाद लड़क़ी के घर वाले उसके लिए लड़का देखने लगे| और सच्चाई जानने के बाद वह लड़का जो कि उस लड़की से बहुत प्यार करता था, वह उस लड़की के दिल में अपने लिए नफरत भरने लगा| वह जानबूझकर ऐसा करता था ताकि वह लड़की उससे बहुत नफरत करने लगे| और ठीक वैसा ही हुआ जैसा वह लड़का चाहता था| उस लड़के ने कुछ ऐसा किया, जिससे लड़की उससे नफरत करने लगी| उस लड़की की शादी किसी और से तय कर दी गई| पर वह अन्दर ही अन्दर बहुत दुखी थी| क्यूंकि वह लड़के को बिलकुल भी नहीं भुला पा रही थी|

जिस दिन उस लडकी की शादी थी उसी दिन उस लड़के ने उस लड़की की छोटी बहन को फोन किया और कहा “मै जो कुछ भी कहूँ, वह सब अपने फ़ोन में रिकॉर्ड कर लेना| जब तुम्हारी बड़ी बहन आए तो उसे यह रिकॉर्डिंग सुना देना| उस लड़की की शादी हो गयी और वह शादी के दो दिन बाद अपने घर आती है| उसकी बहन कहती है “दीदी आपको कुछ सुनाना है|” वह लड़की हंसकर कहती है “क्या? चल सुना!” जैसे ही वो फ़ोन चलाती है| उसमे से रोने की अवाज आती है, वह अपनी बहन से कहती है “ये आवाज तो हर्ष लग रही है|” छोटी बहन कहती है “दीदी जिस दिन आपकी शादी थी, उसी दिन आपके हर्ष का फोन आया था और बहुत रो रहा था| आप खुद ही सुनिए की वह क्या कह रहा था|”

फ़ोन की रिकॉर्डिंग चलाने पर हर्ष रो-रोकर कह रहा था “रीना मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ, और अपने जीते जी तुम्हारी शादी किसी और के साथ होते नही देख सकता हूँ| क्योकि मैंने तुमसे बहुत प्यार किया है और मै अब बस यही चाहता हूँ कि तुम अपनी जिन्दगी में आगे बढ़ो और खुश रहो| मैं तुम्हे कभी भूल नही सकता मेरी जान|” इतना कहकर फोन कट जाता है| हर्ष की यह बात सुनकर वह बहुत रोती है और अपनी बहन पर चिल्लाती है “तूने मुझे उसी दिन क्यों नहीं बताया जब फ़ोन आया था|” छोटी बहन जवाब देती है”मैं क्या करती, मैं तो कसमों के धागे मे बंधी थी| मै कर भी क्या सकती थी?” वह अपनी बहन को उसी नम्बर पर फोन लगाने के लिए कहती है जिससे हर्ष ने फ़ोन किया था|

छोटी बहन पूछती है “क्यों दीदी?” परन्तु वह छोटी बहन को बहुत गुस्से में डांट देती है और गुस्से मे कहती है “चल फोन लगा” वह जल्दी से फोन लगाती है| घण्टी जाती है, दूसरी तरफ फोन उठता है और उधर से आवाज आती है
“हेल्लो,
“हेल्लो, आंटी जी हर्ष कहाँ है?”
हर्ष की माँ रोने लगती और कहती है “बेटी हर्ष इस दुनिया मै नही रहा| वह चोंक जाती है| और पूछती है “आंटी यह सब कब हुआ और कैसे? हर्ष की माँ कहती है “पता नही मेरे हर्ष ने अपनी ज़िन्दगी को अपने आप से दूर कर डाला कसम खा ली किसी से शादी नहीं करूँगा
लड़की : “आंटी जी कब?”
हर्ष की माँ : “19 मार्च को|”
यह सब सुनकर वह लड़की फोन कट कर देती है|” पता है दोस्तों 19 मार्च क्या था? उसकी प्रेमिका रीना की शादी थी| यह सब सुनकर वह बहुत रोयी और रो-रोकर कहने लगी मैंने अपने हर्ष पर विश्वास क्यों नही किया| अगर मैं उसपर विश्वास कर लेती तो मेरा हर्ष इस तरह जिंदा होकर भी मुर्दा नहीं होता | “लोग मंजिल को मुश्किल समझते हैं|
बड़ा फर्क है लोगो में और हम में, लोग जिन्दगी को दोस्त, और हम दोस्त को जिन्दगी समझते हैं| दोस्तों विश्वास बहुत बड़ी चीज होती है| हमें अपनों पर भरोसा करना चाहिए| ताकि जो हर्ष के साथ हुआ वैसा किसी के साथ न हो| अगर प्यार करो तो निभाना भी चाहिए| क्यूंकि प्यार वह अहसास है, जो हमे जीने की वजह देता है| अगर इस दुनिया में प्यार नही तो कुछ भी नही| प्यार अमीरी-गरीबी देखकर नही होता है| प्यार तो कभी भी हो सकता है, इसलिए हमे अपने प्यार पर भरोसा होना चाहिए| क्यूंकि “सच्चा प्यार बहुत मुश्किल से मिलता है|
लेकिन आजकल के लोग बस मजाक करते है प्यार नहीं ..........

Share via Whatsapp

love letter

इतना Sweet Love Letter" कभी नई पढ़ा होगा
वेलेंटाइन पर मंगरु का लिखा खत
मेरी करेजा"...💋
वेलेंटाइन बाबा के कसम ई लभ लेटर मैं डेहरी पर चढ़कर लिख रहा हूँ
डीह बाबा काली माई के कसम आज तीन दिन से मोबाइल में टावरे नहीं पकड़ रहा था...
ए करेजा".. रिसियाना मत
मोहब्बत के दुश्मन खाली हमरे तुम्हरे बाउजी ही नहीं हैं
यूनिनार औ एयरसेल वालें भी हैं"...😞"....
जब फोनवा नहीं मिलता है तो मनवा करता है कि गढ़ही में कूद कर जान दे दें
अरे इन सबको आशिक़ों के दुःख का क्या पता रे"..😒
हम चार किलो चावल बेच के नाइट फ्री वाला पैक डलवाये थे...
लेकिन हाय रे नेटवर्क"....कभी कभी तो मन करता है"...
की चार बीघा खेत बेचकर दुआर पर एक टावर लगवा लें".... आ रात भर तुमसे बतियावें"....😊
तुमको पता है जब जब सरसो का खेत देखता हूँ न तब तब तुम्हाई बहुते याद आवत है
लगता है तुम हंसते हुए दौड़कर मेरे पास आ रही हो....मन करता है ये सरसों का फूल तोड़कर तुम्हारे जूड़े में लगा दूँ
आ जोर से कहूं..."आई लव यू करेजा"....💋
अरे अब गरीब लड़के कहाँ से सौ रुपया का गुलाब खरीदेंगे
जानती हो हवा एकदम फगुनहटा बह रही है... तुम तो घर से निकलती नहीं हो
यहाँ मटर, चना जौ के पत्ते सरसरा रहे हैं...रहर और लेतरी आपस में बतिया रहे हैं
मन करता है खेत में ही तुम्हारा दुपट्टा बिछाकर सो जाऊं आ सीधे होली के बिहान उठूँ
उस दिन चंदनिया के बियाह में तुम आई थी न".... हम देखे थे तुम केतना खुश थी...
करिया सूट में एकदम फूल गोभी जैसन लग रही थी...😍
तुमको पता है तुमको देखकर हम दू घण्टा नागिन डांस किये थे"...☺
बाकी सब ठीके है रात दिन तुम्हारी याद आती है पागल का हाल हो गया है
रहा नहीं जा रहा तेरह को बनारस में भरती है
देखो बरम बाबा का आशीर्वाद रहा तो मलेटरी में भरती होकर तुमसे जल्दी बियाह करेंगे...
हम नहीं चाहते की तुम्हारा बियाह किसी बीटेक्स वाले से हो जाए
और हमको तुम्हारे बियाह में रो रोकर पूड़ी पत्तल गिलास चलाना पड़े
आगे सब कुशल मंगल है"..... तु आपन खयाल रखना"....💋
तुमहार आशिक "....

Share via Whatsapp

hindi story baap beta

एक व्यक्ति आफिस में देर रात तक काम 

करने के बाद थका-हारा घर पहुंचा  दरवाजा 

खोलते ही उसने देखा कि उसका छोटा सा 

बेटा सोने की बजाय उसका इंतज़ार कर रहा

है अन्दर घुसते ही बेटे ने पूछा पापा क्या 

मैं आपसे एक प्रश्न पूछ सकता हूँ

हाँ -हाँ पूछो क्या पूछना है पिता ने कहा . 

बेटा पापा आप एक घंटे में कितना कमा

लेते हैं इससे तुम्हारा क्या लेना देना

तुम ऐसे बेकार के सवाल क्यों कर रहे 

हो पिता ने झुंझलाते हुए उत्तर दिया .

बेटा – मैं बस यूँ ही जाननाचाहता हूँ . 

प्लीज बताइए कि आप एक घंटे में कितना 

कमाते हैं पिता ने गुस्से से उसकी तरफ 

देखते हुए कहा  नहीं बताऊंगा  तुम जाकर 

सो जाओ “यह सुन बेटा दुखी हो गया …

और वह अपने कमरे में चला गया . 

व्यक्ति अभी भी गुस्से में था और सोच 

रहा था कि आखिर उसके बेटे ने ऐसा क्यों

पूछा पर एक -आध घंटा बीतने के बाद वह 

थोडा शांत हुआ , फिर वह उठ कर बेटे 

के कमरे में गया और बोला क्या तुम सो 

रहे हो नहीं जवाब आया .मैं सोच रहा 

था कि शायद मैंने बेकार में ही तुम्हे डांट 

दिया।दरअसल दिन भर के काम से मैं 

बहुत थक गया था व्यक्ति ने कहा

सारी बेटा मै एक घंटे में १०० रूपया कमा 

लेता हूँ थैंक यूं पापा बेटे ने ख़ुशी से बोला 

और तेजी से उठकर अपनी आलमारी की 

तरफ गया , वहां से उसने अपने गोल्लक 

तोड़े और ढेर सारे सिक्के निकाले और 

धीरे -धीरे उन्हें गिनने लगा . “ 

पापा मेरे पास 100 रूपये हैं . क्या 

मैं आपसे आपका एक घंटा खरीद सकता हूँ 

प्लीज आप ये पैसे ले लोजिये और

कल घर जल्दी आ जाइये मैं आपके 

साथ बैठकर खाना खाना चाहता हूँ 

.दोस्तों  इस तेज रफ़्तार जीवन में 

हम कई बार खुद को इतना व्यस्त 

कर लेते हैं कि उन लोगो के

लिए ही समय नहीं निकाल पाते 

जो हमारे जीवन में सबसे ज्यादा 

अहमयित रखते हैं. इसलिए हमें ध्यान 

रखना होगा कि इस आपा-धापी भरी 

जिंदगी में भी हम अपने माँ-बाप जीवन 

साथी बच्चों और अभिन्न मित्रों के

लिए समय निकालें, वरना एक दिन हमें 

अहसास होगा कि हमने छोटी-मोटी चीजें 

पाने के लिए कुछ बहुत बड़ा खो दिया !!

Share via Whatsapp

Do Bhai Ki Kahani

दो भाई समुद्र के किनारे टहल रहे थे 

दोनों के बीच किसी बात को लेकर कोई 

बहस हो गई ! बड़े भाई ने छोटे भाई की 

थप्पड़ मार दिया ! छोटे भाई ने कुछ नहीं 

कहा ! फिर रेत पर लिखा -आज मेरे भाई 

ने मुझे मारा ! अगले दोनों फिर से समुंदर 

किनारे घुमने के लिए निकले ! छोटा भाई 

समुन्द्र में नहाने लगा ! और अचानक डूबने 

लगा ! बड़े भाई ने उसे बचाया ! छोटे भाई ने 

पत्थर पे लिखा ! आज मेरे भाई ने मुझे बचाया !

बड़े भाई ने पुचा ! जब मेने तुझे मारा था !

तब तुमने रेत पर लिखा ! और आज तुम्हे बचाया 

तो पत्थर पे लिखा क्यों ! रोते हुए छोटे भाई ने 

कहा -जब कोई हमे दुःख दे तो हमे रेत पर 

लिखना चाहिए ! ताकि वो जल्दी मिट जाए !

लेकिन जब कोई हमारे लिए अच्छा करता है 

तो पत्थर पर लिखना चाहिए !जो मिट ना पाए !

मतलब ये है की हमे अपने साथ हुई बुरी घटना 

को भूल जाना चाहिए ! जब की अच्छी चाटना को 

सदेव {हमेशा} याद रखना चाहिए !!

आदमी गुस्से हो तो उसे प्यार की जरूरत होती है 

अगर हम भी अपना गुस्सा दिखाए तो बुरा अंजाम होता है !!

Share via Whatsapp
hindi story ek dard bhari prem kahaani

Ek Dard Bhari Prem Kahaani

!!एक प्रेमी की दर्द भरी बेवफाई की कहानी!!

एक अंधी लड़की हमेशा इस सोच में डूबी रहती थी

की कोई मुझे प्यार करेगा की नहीं

मुझे किसी का प्यार मिलेगा की नहीं 

एक बार राह चलते चलते वह कहीं गिर पड़ी

उसे एक लड़के ने उठाया सहारा दिया और उसे

 लेकर उसकी घर की तरफ चल पड़ा.

इस दरम्यान उनके मध्य बहुत सी बातें होती है

घर छोड़ते वक्त लड़का लड़की से कहता है अगर 

मैं तुम्हारी ज़िन्दगी का हिस्सा बनना चाहूँ तो

क्या तुम स्वीकार करोगी मैं तुम्हे बहुत प्यार दूंगा

और बहुत प्यार से रखूँगा..(22) साल से लड़की जिस

दो लफ्ज़ को वो सुनना चाहती थी वो लफ्ज़ इस लड़के

से सुन बरबस उसकी आँखों में आंसू आ गए

और कहा ये जानते हुए भी की मेरी आँखें नहीं हैं

फिर भीलड़के ने कहा : हाँ मैं तुम्हे 

तुम्हारे अस्तित्व चाहने लगा हूँ

इस पर लड़की रोने लगी और बोली : 

काश ! अगर मै तुम्हे देख पाती तो तुम्ही से

शादी करती कुछ साल बीत गए और उस

लड़के ने उस लड़की की आँखों का ओपरेशन कराया

ओपरेशन कामयाब हुआ। 

डॉक्टर जब उसकी आँखों से पट्टी उतारने लगते है

 तो लड़की कहती है की सबसे पहले मुझे उस 

इंसान को चेहरा दिखाइये जिसकी वजह 

से मै अब दुनिया को देखने जा रही हु

डॉक्टर उस लड़के को उस लड़की के सामने

 लाते है और लड़की की आँखों की पट्टी उतारते है 

लड़की देखती है की वो लड़का भी अँधा है

तब लड़का कहता है क्या तुम मुझसे शादी करोगी

लड़की जवाब देती है मैंने मेरी ज़िन्दगी अँधेरे में

गुजारी है मुझे पता है अँधापन कैसा होता है

मै फिर से मेरी ज़िन्दगी को अंधेपन में नहीं

डाल सकती मै तुमसे शादी नहीं कर सकती

तब लड़का उस लड़की को एक पत्र देकर चला जाता है।

जब लड़की उस पत्र को देखती है तो उसमे लिखा होता है

________ऐ बेवफा ________

तुम अपना ख्याल रखने के साथ साथ मेरी इन आँखों

 का भी ख्याल रखना" तुम्हारा प्रेमी 

Share via Whatsapp

best story

स्टेशन से एक 18-19 वर्षीय खूबसूरत लड़की चढ़ी जिसका 

मेरे सामने वाली बर्थ पर रिजर्वेशन था उसके पापा उसे छोड़ने आये थे।

अपनी सीट पर वैठ जाने के बादउसने अपने पिता से कहा

डैडी आप जाइये अब,ट्रेन तो दस मिनटखड़ी रहेगी यहाँ दस 

मिनटका स्टॉपेज है।.उसके पिता ने उदासी भरे शब्दों केसाथ 

कहा "कोई बात नहीं बेटा,10 मिनट और तेरे साथ बिता लूँगा

अब तो तुम्हारे क्लासेज सुरु हो रहेहै काफी दिन बाद आओगी तुम।

लड़की शायद दिल्ली में अध्ययन कर रही होगी क्योंकि उम्र 

और वेशभूषा से विवाहित नहीं लग रही थी ।.ट्रेन चलने लगी 

तो उसने खिड़की से बाहर प्लेटफार्म पर खड़े पिता कोहाथ हिलाकर बाय कहा।

बाय डैडी.. ..अरे ये क्या हुआ आपको !अरे नहीं प्लीज"पिता की आँखों 

में आंसू थे।ट्रेन अपनी रफ्तार पकडती जारहीथी और पिता रुमाल से 

आंसू पोंछतेहुए स्टेशन से बाहर जा रहे थे।.लड़की ने फोन लगाया.."

हेलो मम्मी..ये क्या है यार!जैसे ही ट्रेन स्टार्ट हुई डैडी तो रोने लग गये.

अब मैं नेक्स्ट टाइम कभी भी उनको स्टेसन आने  के लिए नहीं कहूँगी.

भले अकेली आजाउंगी ऑटो से. .अच्छा बाय..पहुँचते ही कॉल करुँगी.

डैडी का खयाल रखना ओके।".मैं कुछ देर तक लड़की को सिर्फ 

इसआशा से देखता रहा कि पारदर्शी चश्मे से झांकती उन आँखों 

से मुझे अश्रुधारा दिख जाए परमुझे निराशा ही हाथ लगी.उन आँखों 

में नमी भी नहीं थी।कुछ देर बाद लड़की ने फिर किसीको फोन लगाया- 

"हेलो जानू कैसे हो....मैं ट्रेन में बैठ गई हूँ..हाँ अभी चली है 

यहाँ से,कल अर्ली-मोर्निंग दिल्ली पहुँचजाउंगी.. लेने आजाना. लव यूटू यार, 

मैंने भी बहुत मिस किया तुम्हे.. बस कुछ घंटेऔर सब्र करलो कल तो पहुँच हीजाऊँगी।"

.मैं मानता हूँ कि आज के युगमें बच्चों को उच्चशिक्षा हेतु बाहर भेजना आवश्यक है 

पर इस बात में भी कोई दो राय नहीं कि इसके कई दुष्परिणाम भी हैं।

मैं यह नहीं कह रहा कि बाहर पढने वाले सारे लड़के लड़कियां ऐंसे होते हैं। 

मैं सिर्फ उनकी बात कर रहा हूँजो पाश्चात्य संस्कृति की इस हवामें अपने 

कदम बहकने से नहीं रोकपाते और उनको माता- पिता,भाई-बहन किसी का प्यार 

याद नहीं रह जाता सिर्फ एक प्यार ही याद रहता है!!!वो ये भी भूल जाते है 

कि उनकेमाता- पिता ने कैसे-कैसे साधनों कोजुटा कर और किन सपनों 

कोसंजो कर अपने दिल के टुकड़े को अपने से दूर पड़ने भेजा है।

लेकिन बच्चे के कदम बहकने से उसकी परिणति क्या होती है !!

Share via Whatsapp
hindi story stori dahej ki bimaari

Dahej ki bimaari

Share via Whatsapp

Jalan Ka Mithas a Love Story in Hindi

जलन की मिठास
घर में घुसते ही बेटे ने कहा - पापा ! माँ की अंगुली कट गयी आज । बहुत खून निकला था ।
रसोई में देखा तो बीबी रोटियाँ सेंक रही थी । कपड़े उतार कर खूंटी पर टाँगे और मुंह हाथ धोकर पत्नी से बोला - क्या हो गया हाथ को ?

- नया चाकू था सो सब्जी काटते हुए अंगूठा कट गया ।

- और फिर भी तुम लगी हुई हो , क्या खाना मैं नहीं बना सकता था ?

- तुम भी तो थके हारे आते हो सारा दिन लोहा काट पीट कर और फिर आकर चूल्हे में हाथ जलाओ ये मेरे रहते तो न हो सकेगा ।

- कमाल करती हो तुम भी , ये गाँव नहीं है , यहाँ तो औरतें पैर तक दबबाती हैं और तुम हो कि मुझे रसोई भी न बनाने दोगी ।

- बैठो यहाँ , मैं तुम्हें गरम रोटी परोसती हूँ ।

- जैसे ही सब्जी से अंगुली के पोर छूए मुंह से सिसकारी निकल गयी। बेटे को बगल में बैठा कर उसके मुंह में भी निवाले देता गया पति ।

- लाओ थाली मुझे दे दो । और वह पति की थाली में अपने लिए खाना परोस खाने लगी । तुम आराम करो मैं जरा रसोई सम्हाल लूँ ।

- खाना खाकर बाहर आओ ।

- क्या हो गया जी ? ऐसे क्यों चिल्ला रहे हो ? पत्नी रसोई से बाहर आते हुए बोली ।

पति रसोई में घुसा और बर्तन साफ करने लगा । उसके भी हाथों को आज बर्तन धोने में जलन हो रही थी , मगर सारे बर्तन चमका कर ही बाहर निकला ।

- ये आज अच्छा नहीं किया तुमने , मेरे रहते तुम ने बर्तन साफ किए ...और वह सुबकने लगी l

आँसू पोंछने के लिए पति ने जैसे ही चेहरे को छुआ तो हाथों की हालत गालों ने बयान कर दी । हाथों को होंठों से चूमते हुए बोली - कैसे आदमी हो तुम ? दर्द को रोजी बनाए फिरते हो और आज मेरा भी दर्द अपना बना लिया ।

जलन का मीठा एहसास आँखों की चमक और प्यार की मिठास बढ़ा 
गया था l

Jalan Ka Mithas a Love Story in Hindi

Share via Whatsapp