www.poetrytadka.com

Facebook Shayari

Pad paisa bhoolae

पद व पैसा भूलिए, न करिए अभिमान !
ऐसी वाणी बोलिए, बन जाइए पहचान !
सद्व्यवहार और...परोपकार कीजिए !
इस जीवन ही पा लीजिए मान-सम्मान !!

Reshte aur vishwash dono dost hai

रिश्ते और विश्वास दोनो ही मित्र है। रिश्ते रखो या ना रखो पर विश्वास जरुर रखना, क्योंकि जहां विश्वास होता है, वहां रिश्ते अपने आप बन जाते हैं

Naam isliae uncha hai hmara

नाम इसलिए ऊँचा है हमारा ''क्यूकी !
हम बदला लेने की नहीं ''बदलाव लाने की सोंचते है !!

Dushman se hamesha bacho

Dushman se hamesha bacho
Dushman se hamesha bacho, aur dosht se us waqt jab wo tumhari taareef karne lege

Beshak mushkil waqt batakar nahin aata

Beshak mushkil waqt batakar nahin aata
Beshak mushkil waqt batakar nahin aata, lekin bahut kuch sikha kar samjhakar jata hai