Dil shayari

hmara dil kisi gahri

हमारा दिल किसी गहरी जुदाई के भँवर में है !
हमारी आँख भी नम है कभी मिलने चले आओ !!

dil ki pahli bhool

दिल की पहली भूलों में जो शामिल होता है !
उसको सारी उम्र भुलाना मुश्किल होता है !!

gulab to tootkar bikhar jata hai

गुलाब तो टूट कर बिखर जाता है !
पर खुशबु हवा में बरकरार रहती है !
जाने वाले तो छोड़ के चले जाते हैं !
पर एहसास तो दिलों में बरकरार रहते हैं !!

uske liae duaa mangi

टूटे हुए दिल ने भी उसके लिए दुआ मांगी !
मेरी साँसों ने हर पर उसकी ख़ुशी मांगी !
न जाने कैसी दिल्लगी थी उस बेवफा से !
के मैंने आखिरी ख्वाहिश में भी उसकी वफ़ा मांगी !!

dil janta hai bewfa hai wo

किसे मालूम था इश्क..इस कदर लाचार करता है !
दिल जानता है बेवफा है वो.फिर भी उसी से प्यार करता है !!

dil samajh kar

तड़पती देखता हूँ जब कोई चीज !
उठा लेता हूँ अपना दिल समझ कर !!

mohabbat nhi rhi

ऐसा नहीं कि उन से मोहब्बत नहीं रही !
जज़्बात में वो पहले-सी शिद्दत नहीं रही !
सर में वो इंतज़ार का सौदा नहीं रहा !
दिल पर वो धड़कनों की हुक़ूमत नहीं रही !!

kaash wo samajhte dil ki tdap ko

काश वो समझते इस दिल की तड़प को !
तो यूँ हमें रुसवा ना किया होता !
उनकी ये बेरुखी भी मंज़ूर थी हमें !
बस एक बार हमें समझ लिया होता !!

ab to maanja dil

अब तो मान जा ऐ दिल ❤कि कोहरा घना है लोगों के दिलों में !
अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं !!

dil dhadkta rhega

तेरी साँसो की महक समायी हे इस दिल में !
बस तुम महकते रहना दिल धडकता रहेगा !!