Dil shayari

dil ki dasta bhi azib hoti hai

इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है !

बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है !

किसी के पास आने पर ख़ुशी हो न हो !

पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है !!

jab nikalta hai dil se koi

जब निकलता है कोई दिल में बस जाने के बाद !

दर्द कितना होता है बिछड़ जाने के बाद !

जो पास होता है उसकी कदर नहीं होती !

कमी महसूस होती है दूर जाने के बाद !!

kisi ke dil me hum bhi

तमन्ना-ए-इश्क़ तो हम भी रखते है

किसिके दिल मे हम भी धड़कते है

ना जाने हमे वो कब मिलेंगे

जिनके लिए हम तड़पते है

kuch kisse dil me

कुछ किस्से दिल में कुछ कागजों पर आबाद रहे

बताइये कैसे भूलें उसे जो हर साँस में याद रहे

Mera Dil

‎सुनो‬ ये मेरा ‎तुम‬ ही रख लो ना,
‪मेरे‬ पास वैसे भी रहता है..

ye dil hi hai

ये "दिल" ही है जिसे हारने की आदत हो गई !
वर्ना,जहाँ भी हमने "दिमाक" लगाया फतह ही पाई है !!

naa jane itni mohabbat

ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है उसके लिये !
कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मेरी सुनता नही है !!

pal pal tera intzaar hota hai

पल पल तेरा इन्तज़ार होता है !
लम्हा लम्हा यह दिल बेक़रार होता है !!

mujhe aadat nahi

मुझे ‪आदत‬ नहीं यूँ हर किसी पे ‪‎मर‬ मिटने की !
पर तुझे देख कर ‪दिल‬ ने सोचने तक की मोहलत ना दी !!

dil tdap jata hai

दूर ना जाया करो दिल तड़प जाता है !
तेरे ही ख्यालो में दिन गुजर जाता है !!