www.poetrytadka.com

Dil Ki Baat

Afsana dil ka

होंठ कह नहीं सकते जो फ़साना दिल का

शायद नज़रों से वो बात हो जाए

इस उम्मीद से करते हैं इंतज़ार रात का

कि शायद सपनों में ही मुलाक़ात हो जाए

Pyar ke chirag kabhi

कुछ चेहरे भुलाए नहीं जाते

कुछ नाम दिल से मिटाए नहीं जाते

मुलाक़ात हो न हो, अय मेरे यार

प्यार के चिराग कभी बुझाए नहीं जाते

Kaash wo nagme hme

काश वो नगमें हमें सुनाए ना होते

आज उनको सुनकर ये आंसू ना आए होते

अगर इस तरह भूल जाना ही था

तो इतनी गहराई से दिल में समाए ना होते।

Bhula kar hame kya wo

भुला कर हमें क्या वो खुश रह पाएंगे

साथ में नही तो मेरे जाने के बाद मुस्कुरायेंगे

दुआ है खुदा से की उन्हें कभी दर्द न देना

हम तो सह गए पर वो टूट जायेंगे

Wafa ke badle bewafai na diya karo

वफा के बदले बेवफाई ना दिया करो

मेरी उम्मीद ठुकरा कर इंकार ना किया करो

तेरी मोहब्बत में हम सब कुछ खो बैठे

जान चली जायेगी इम्तिहान ना लिया करो