www.poetrytadka.com

Dhoka Shayari

Dhokha nahi mila

कौन है इस जहाँ मे जिसे धोखा नहीं मिला,

शायद वही है ईमानदार जिसे मौक़ा नहीं मिला.

Dhoka deti hai

धोखा देती है शरीफ चेहरों की चमक अक्सर,

हर कांच का टूकड़ा हीरा नहीं होता

Kahte hai pyar me dhokha

kahte hai pyar me dhokha

लोग कहते है प्यार मे धोखा मिलता है 

पर जो कहते है वो मेरे सनम को नही देखा

Mohabbat me dhoka nahi hota

जब दो टूटे हुए दिल मिलते है, 

तब मोहब्बत में धोखा नहीं होता 

Dhokha dil ke kareeb

देखा है जिदंगी में हमने ये आज़मा के

देते है यार धोख़ा दिल के करीब ला के