www.poetrytadka.com



Dard Bhari Shayari

mohabbat bhi

मोहब्बत भी ,शरारत भी, शराफ़त भी, इबादत भी,

बहोत कुछ करके देखा फ़िर भी हम तेरे न हो पाये 

dard bhari dosti shayari

dard bhari dosti shayari

dard bhari dosti shayari

tere gam ko

tere gam ko

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ 

ज़िन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ

मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह 

तमाम उम्र बस एक मुलाकात में गुजार लूँ 

toot jana

toot jana

टूट कर चाहना और फिर टूट जाना

बात छोटी है मगर जान निकल जाती है

aznabi ke zubaan pe

aznabi ke zubaan pe

तेरा नाम था आज किसी अजनबी की जुबान पे बात तो जरा सी थी पर दिल ने बुरा मान लिया !!