www.poetrytadka.com



Bewafa Shayari

jab wo bewfa huae

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए !
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए !
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो !
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए !!

Zamane ki bewafai

तू भी बेवफा निकला औरों की तरह, सोचा था !
की हम तुझसे ज़माने की बेवफाई का गिला करेंगे !!

bewfa ki aasme

जुल्मो सितम सहते रहे एक बेवफा की आस मे !
डुबो दिया मुझे दरिया ने दो घूट की प्यास में !!

charche bewfai ke

मैंने उस से वफ़ा की उम्मीद लगा रखी थी दोस्तों !
जिसके चर्चे आम थे बाजार में बेवफाई के दोस्तों !!

intzar ki aaezoo ab kho gai

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है !
खामोशियो की आदत हो गयी है !
न सीकवा रहा न शिकायत किसी से अगर है तो !
एक मोहब्बत जो इन तन्हाइयों से हो गई है !!