www.poetrytadka.com



Bewafa Shayari

bhut toot kar chaha

bhut toot kar chaha

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,

कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,

बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,

आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी

Pyar me bewafai

Pyar me bewafai

प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना;

अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना;

वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे;

पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

ek bewfa se pyaar

ek bewfa se pyaar

मैंने भी किसी से प्यार किया था

उनकी रहो में इंतजार किया था

हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें

कसूर उनका नहीं मेरा ही था

जो एक बेवफा से प्यार किया था !!

Badi mehnat se meri duniya lutai hogi

Badi mehnat se meri duniya lutai hogi

Badi mehnat se meri duniya lutai hogi,

Meri mohabat ki hasti mitai hogi,

La tere pairon mein marham laga du,

Kyon ki …

Mere dil ko thoker marne mein 

tuje chhot to ai hogi....

....Bewafa...

bewfa kun hai

bewfa kun hai

चलो छोड़ो ये बहस कि वफ़ा किसने की

और बेवफा कौन है 

तुम तो ये बताओ कि आज 'तन्हा' कौन है !!